COPYRIGHT

शनिवार, 23 जुलाई 2011

आजादी के महानायक चन्द्र शेखर आजाद के जन्म दिवस पर:-

स्वर्गलोक में शेखर के बाजू अब भी फड़क रहे होंगे,
बंदूकों में गोली भरकर खूनी आँसू छलक रहे होंगे,
अंग्रजों से बड़े लुटेरे  तो अब भी जनता को लूटें जी-जान से,
शायद अब इन पर बारिश हो गोली और तोपों की आसमान से// 
---------'विवेक'


1 टिप्पणी:

  1. बहुत अच्छी पंक्तियाँ.....आज गाँधी और आजाद दोनों की देश को आवश्यकता है.

    उत्तर देंहटाएं